On Family, Familiarity, and Fear

"Familiarity breeds contempt,"
I have heard them often say.
It's wise to not be too frequent,
It's important for one to have his own space.
But, frequency is not the same as familiarity;
Familiarity and family go together.
True friends see each other's weaknesses,
And, they help each other grow strong.

These fig leaves that hide false shame
Will not remain for very long.
The desire for human honor
Only tears humans apart.
But, He gave us garments
Washed in His blood.
He came and lives in us,
We are the sons of God.

The closer I draw to Him,
The deeper grows my love.
The closer He draws to me,
The greater He shows His love.

Share:

The Peace of God that Surpasses All Understanding

the peace of God, which surpasses all understanding, will guard your hearts and minds through Christ Jesus. (Phi 4:7 NKJ)

The peace of God and the faith of God belong together. Peace keeps us constant while the winds and waves of doubts try to assail from without. Peace helps us walk on water though everything looks contrary to it.

The Spirit witnesses with the spirit and reveals the things of God. He is the Spirit of wisdom and the fear of the Lord. The Spirit raises a banner of peace when floods come against us.

The peace of God is the agreement of the Spirit with our spirit. The flesh disagrees and tries to be violent and aggressive. The carnal mind involves in carnal, godless rationalizations. The spiritual mind agrees with and submits to the Law of God.

Discernment is important in all this. The Spirit gives us discernment.

The Spirit forbids and our spirits are not peaceful. The Spirit is the spirit of fearlessness, of courage, of love, of power, and of a sound mind.

Peacelessness creates an insane-like situation. The peace of God guards our hearts and minds through Christ Jesus.
Share:

Preaching Before Experiencing

The general rule is that one must not preach what one doesn’t practice and one can’t know in order to share something unless one experiences it. But, especially, if someone knows the truth and preaches it but doesn't practice it, not because he can't but because he doesn't want to, that constitutes rebellion. However, this doesn’t mean that if a person doesn’t practice what he preaches, one must reject what he says. Jesus warned us against this.
Then Jesus said to the crowds and to his disciples, "The teachers of religious law and the Pharisees are the official interpreters of the law of Moses. So practice and obey whatever they tell you, but don't follow their example. For they don't practice what they teach. (Mat 23:1-3 NLT)
Certainly, whether one practices or does not, truth is still truth. Principles never change. However, Jesus also made it clear that only those who really seek to obey God will be able to know the will of God and recognize the revelation of God.
Anyone who wants to do the will of God will know whether my teaching is from God or is merely my own. (John 7:17 NLT)
The Pharisees certainly missed on this. They had no desire for true righteousness that comes by faith in the revelation of God. They were motivated by pride and the desire for honor from men.
"How can you believe, who receive honor from one another, and do not seek the honor that comes from the only God? (Joh 5:44 NKJ)
But, when one has a deep desire for God’s truth, God will reward those who seek Him in faith.

In this, the desire to experience the will of God and to practice His word is a prerequisite to a life lived by the living word of God. In such situations, preaching before experiencing is not discouraged because of the presence of this deep desire for righteousness of faith and the longing for God.

For instance, we have not been to heaven yet, but we know of it from God’s word and long for it. We have not experienced immortality yet, but we preach it and we long for it (2Cor.5:2; Rom.8:23). This longing is the part that leads to the recognizing and the receiving by faith. It’s like a baby that knows (not intellectually nor empirically) that pure milk is what she really longs for and when she is given the milk, she finds rest. This desire to have or will to obey is on the same path of the experience of having and the practice of obedience. The seed and the fruit belong together. It is like the confessing of faith with the deep assurance of the evidence of things unseen.

Now, there is some vicarious aspect of common human experience that validates speaking on something even if we have not experienced it. For instance, how is it that one weeps or may experience increased heartbeat or fear while watching a movie story even though what’s happening in the story is not actually happening with him? Also, there is an aspect of imagination that can infer from previous understanding and try to conceive of an experience in real terms: for instance, the depiction of sea experience by Shakespeare though he himself is said to have never been at sea. Some form of such imagination is part of what our minds also do when trying to understand the Bible. However, much is clarified, corrected, and improved as we continue in the studies and learn to interpret as we listen to the voice of the Spirit.

But, then there are cases where preaching has preceded experience.

Let me quote just two examples from Church history, one from the life of John Wesley and the other from Charles Parham.

JOHN WESLEY PREACHED FAITH BEFORE HE COULD HAVE FAITH
(From Basil Miller, John Wesley (Minn: Bethany House, 1943), 57-61)
“I found my brother at Oxford … and with him Peter Bohler,” John enters in his Journal under date of March 4, “by whom I was on Sunday, the fifth, clearly convinced of unbelief, of the want of faith whereby alone we are saved.”
This turbulency of soul caused John to despair of ever preaching again, and he told Bohler that he would “leave off preaching. How can you preach to others, who have not faith in yourself?” Bohler urged him to continue his gospel work, to which John retorted, “But what can I preach?”
“Preach faith until you have it; and then because you have it, you will preach faith,” came the Moravian’s response.
John was not long in starting on this adventure, for he says, “Accordingly, Monday 6, I began preaching this new doctrine, though my soul started back from the work. The first person to whom I offered salvation by faith alone was a prisoner under sentence of death.”
The condemned man arose from prayer and exclaimed, “I am now ready to die. I know Christ has taken away my sins, and there is no condemnation for me.”
….
Week by week John continued his preaching as Sundays rolled around, and meantime his searching went on with diligence….
…he wrote to a friend, “Let no one deceive us by vain words, as if we had already attained unto this faith. By its fruits we shall know. Do we already feel peace with God and joy in the Holy Ghost?... Does the Spirit bear witness?... Alas with mine he does not….”
He was on a soul search which should cease only when he had found this glorious peace. His spiritual quest went on by the hour until Wednesday, May 24, arrived. Let him tell the story:
“We. May 24 – I think it was about five this morning that I opened my Testament on these words, ‘There are given unto us exceeding great and precious promises, even that ye should be partakers of the divine nature.’
“Just as I went out, I opened it again on those words, ‘Thou art not far from the kingdom.’
“In the afternoon I was asked to go to St. Paul’s. The Anthem was, ‘Out of the deep have I called unto Thee, O Lord… O Israel, trust in the Lord; for with the Lord there is mercy…’”
During that memorable soul-shaping day everything seemed to point John to one thing – redemption as a soon-wrought work in his life. When evening came down Aldersgate Street not far from St. Paul’s, John was unwillingly dragged to a meeting.
“In the evening,” he says, “I went very unwillingly to a society in Aldersgate Street, where one was reading Luther’s preface to the Epistle to the Romans. About a quarter before ning, while he was describing the change which God works in the heart through faith in Christ, I felt my heart strangely warmed…”
“I felt I did trust in Christ,” he goes on to relate, “Christ alone, for salvation; and an assurance was given me that He had taken away my sins, even mine, and saved me from the law of sin and death.”
CHARLES PARHAM PREACHED HOLY SPIRIT BAPTISM BEFORE HE RECEIVED IT
(From http://www.revival-library.org/pensketches/am_pentecostals/parham.html. Retrieved August 22, 2016. Bold emphatics, mine)
In December of 1900 examinations were held on the subjects of repentance, conversion, consecration, sanctification, healing, and the soon coming of the Lord. But there was the problem of the book of Acts. Parham had always felt that missionaries to foreign lands needed to preach in the native language. Having heard so much about this subject during his recent travels Parham set the forty students an assignment to determine the Biblical evidence of the baptism in the Holy Spirit and report on their findings in three days, while he was away in Kansas City. He returned on the morning preceding the watch night service 1900-1901.
Parham was astonished when the students reported their findings that, while there were different things that occurred when the Pentecostal blessing fell, the indisputable proof on each occasion was that they spoke in other tongues.
About seventy-five people (probably locals) gathered with the forty students for the watch night service and there was an intense power of the Lord present.
It was here that a student, Agnes Ozman, (later LaBerge) asked that hands might be laid upon her to receive the baptism of the Holy Spirit. She believed she was called to the mission field and wanted to be equipped accordingly. At first Parham refused, as he himself never had the experience. Nevertheless, she persisted and Parham laid his hands upon her head.
“I had scarcely repeated three dozen sentences when a glory fell upon her, a halo seemed to surround her head and face, and she began speaking in the Chinese language, and was unable to speak English for three days. When she tried to write in English… she wrote in Chinese, copies of which we still have in newspapers printed at that time”
Ozman’s later testimony claimed that she had already received a few of these words while in the Prayer Tower but when Parham laid hands on her, she was completely overwhelmed with the supernatural power of the Holy Spirit.
After this incredible deluge of the Holy Spirit, the students moved their beds from the upper dormitory on the upper floor and waited on God for two nights and three days, as an entire body.
On the night of January 3rd 1901, Parham preached at a Free Methodist Church in Topeka, telling them what had happened and that he expected the entire school to be baptized in the Holy Spirit. On returning to the school with one of the students they heard the most wonderful sounds coming from the prayer room. “The room was filled with a sheen of white light above the brightness of the lamps.” There were twelve denominational ministers who had received the Holy Spirit baptism and were speaking in other tongues. Some were gently trembling under the power of the glory that had filled them. Sister Stanley, an elderly lady, came to Parham, and shared that she saw “tongues of fire” sitting above their heads just moments before his arrival.
“My heart was melted in gratitude to God for my eyes had seen….. I fell to my knees behind a table unnoticed by those on whom the power of Pentecost had fallen to pour out my heart to God in thanksgiving”
Then he asked God for the same blessing, and when he did, Parham distinctly heard God’s calling to declare “this mighty truth to the world. And if I was willing to stand for it, with all the persecutions, hardships, trials, slander, scandal that it would entailed, He would give me the blessing.” It was then that Charles Parham himself was filled with the Holy Spirit, and spoke in other tongues. “Right then and there came a slight twist in my throat, a glory fell over me and I began to worship God in a Swedish tongue, which later changed to other languages and continued so until the morning”
Share:

God and Professional Training

"Unless the LORD builds the house, its builders labor in vain. Unless the LORD watches over the city, the watchmen stand guard in vain." (Psalm 127:1)

We do not go to someone having no training and experience in construction to get a building project done. We hire trained professionals for it. When the time came for the making of the Tabernacle, God chose skilled workmen for the job. Similarly, He expects us to be skilled workmen in the ministry of the Word.

But, it is vain to rely just on knowledge, training, and experience. Unless the Lord builds, all labour is in vain.

Similarly, a man with a heart problem is expected to go to a cardiologist and not to a dentist. However, unless the Lord heals, the doctors labour but in vain.

Paul tells Timothy about the training of a soldier. An untrained soldier is not expected to be sent into battle. Similarly, an untrained athlete is unqualified for any competition. The Bible encourages wisdom, understanding, and skill, but it caps it with the instruction to not rely in our own understanding but trust the Lord with all our heart.

Share:

The Leading of the Spirit

*He REMINDS, brings to our mind, remembrance, the things we heard or saw.
*He helps us REALIZE, helps us come to our senses, brings conviction, gives understanding.
*He REVEALS.

Romans 8:12-17. Matthew 16:16ff
Being LED by the Spirit means:
+To put to death by Him the works of flesh. Deny self. Take up cross.
+To pray in the Spirit in accordance to His witness with, and utterance, beyond utterance He gives to our spirits. Follow Christ. Listen to the Son.
......Help in weakness
......Prayer according to will of God
......Strength. Grace
......Listening
......Obeying

2Corinthians 3-4
Openness to Scripture, the veil removed.
God spoke face to face with Moses, but he had to keep a veil. The veil is still on the eyes of unrepentant people when they read the Scripture, but is removed when one turns to Jesus. A believer is open faced.
So, we with open faces, looking as in a mirror the glory of the Lord, are being transformed into the same image from glory to glory, just as by the Spirit of the Lord.

THOUGHTS
The devil's thoughts are for TEMPTATION
The Spirit's thoughts are for EDIFICATION, SANCTIFICATION

Share:

God Speaks Through Dreams - Poem

In deep sleep at night,
When the body is at rest,
The soul still has sight
In dreams it must test,
Whether they be from God
Or from the soul unrest;
For God often speaks
When our thoughts are quiet,
And the soul that truly seeks
Will surely have light.

Share:

Elisha Miracles

ELISHA’S MIRACLES OF FOOD
2 KGS 4:38
MIRACLE 1:
1. WHO GETS THE ORDER AND WHO GOES? BE CAREFUL WHO YOU ENTRUST A WORK TO. DO YOUR WORK AND PUT RIGHT PERSONS IN RIGHT PLACES. DON’T APPOINT UNTESTED WORKERS TO TASKS WHERE LIVES ARE AT RISK.
2. EXTREMITIES CAN OFTEN MAKE ONE RECKLESS. TO LIVE, DON’T JUST EAT ANYTHING YOU FEEL GOOD OR NICE ABOUT. IF YOU DO NOT KNOW, KEEP QUIET. DON’T MISTAKE IMAGINATION FOR TRUTH.
3. FLOUR IN STEW, STEW IN POISONED STEW. THE POWER OF GOD IS GREATER TO HEAL. THE POWER OF LIFE IS GREATER THAN THE POWER OF DEATH.
BIGGEST ENEMY: FEAR
BIGGEST ACCOMPLISHMENTS OF FEAR:
----IT MAKES YOU BELIEVE IT IS RIGHT, AND THE ONLY OPTION.
-----IT MAKES YOU BELIEVE GOD IS NOT ALL-POWERFUL AND ALL IN CONTROL.
-----IT MAKES YOU BELIEVE GOD IS NOT ALL-CARING AND DOUBTS THE LOVE OF GOD.
-----IT MAKES YOU BELIEVE SOMETHING BAD IS GOING TO HAPPEN.

BIGGEST ACCOMPLISHMENTS OF FAITH:
-----IT BELIEVES THAT GOD’S WORD IS TRUE AND UNCHANGING.
-----IT BELIEVES THAT GOD IS ALL-POWERFUL AND IN ALL CONTROL
-----IT BELIEVES GOD IS ALL-CARING AND ALL-LOVING
-----IT BELIEVES THAT ALL THINGS WORK TOGETHER FOR GOOD TO THOSE WHO LOVE GOD.

MIRACLE 2: FAMINE OVER, HARVEST BEGINS
1. IF GOD SENDS PROVISION FOR 100 MEN, THOUGH IT MAY LOOK LESS, IT IS MORE THAN ENOUGH
2. THE SERVANT QUESTIONS. FAITH’S INSTRUCTIONS MAY NOT ALWAYS LOOK POSSIBLE. PEOPLE QUESTION FAITH.
3. THE DISCIPLES RESPONDED NEGATIVELY TO JESUS. BUT, FAITH KNOWS THAT THERE IS NOTHING IMPOSSIBLE FOR GOD AND FOR THOSE WHO BELIEVE.
4. THOSE WHO OBEY ARE BETTER THAN THOSE WHO SAY “IT IS IMPOSSIBLE” AND AFTER THAT REBEL.
5. GOD’S BLESSINGS ALWAYS HAS LEFTOVERS

Share:

Bible Truths - Hindi


परमेश्वर

बाईबल हमें सिखाती है कि परमेश्‍वर जगत का सृष्टिकर्ता हैं (उत्‍प.1:1)। सृष्टिकर्ता के रूप में वह सृष्टि के समान नही हैं – अर्थात वह अजन्‍म, अनादी, एवं अनंत हैं (निर्ग.15:18; व्‍यवस्‍था.33:27)। बाईबल यह भी सिखा‍ती है कि परमेश्‍वर आत्‍मा है (यूह. 4:24)। किसी ने भी परमेश्‍वर को कभी नही देखा क्‍योंकि वह अदृश्‍य है (कुलु.1:15; 1तिम.1:17)। परमेश्‍वर सर्वोपस्थित है, (भजन 139:7-10), सर्वसामर्थी हैं (मत्ति 19:26), एवं सर्वज्ञानी है (लूका 12:2)। परमेश्‍वर एक है, जिससे पहले तो यह तात्‍पर्य है कि वह अखण्‍ड है, फिर यह कि उसके तुल्‍य और कोई दूसरा नही जो ‘परमेश्‍वर’ नाम से जाना जा सके। एक ही परमेश्‍वर है (व्‍यवस्‍था.4:35)। परमेश्‍वर जीवन का दाता है (अय्यूब 33:4)। परमेश्‍वर जगत का शासक एवं न्‍यायाधीश है, जगत उसी का है (भजन 10:16)। वह मनुष्‍यों के हर विचार, वचन, एवं कर्मों का आंतिम न्‍याय के दिन में हिसाब लेगा (2पत.3:7)। बाईबल सभी मनुष्‍यों को आदेश देती है कि वे परमेश्‍वर के सम्‍मुख में अपने आप को भय, भक्ति, पापों से फिराव, एवं आज्ञाकारिता का विश्‍वास के साथ अपने आप को समर्पित करें (सभो.12:13; प्रेरित.17:30)। बाईबल सिखाती है कि परमेश्‍वर हमारा पिता है (मत्ति6:9; प्रेरित.17:29) जो हमसे शाश्‍वत प्रेम करता है (यर्मि. 31:3)। वह नही चाहता है कि हम अपने पापों (उन बुरे विचारों एवं कार्यों के चलते जिसके हम दोषी है) में नाश हो जाए । इसलिए, परमेश्‍वर ने मानव रूप धारण किया ताकि क्रूस पर हमारे पापदण्‍ड सह कर उस बलिदान के द्वारा वह हमारे लिए एक उद्धार का मार्ग बनाएं। इ‍सलिए, परमेश्‍वर ही हमारा एकमात्र उद्धारकर्ता है (यहूदा 1:25)। जो कोई दिल से इस सच्‍चे परमेश्‍वर से प्रार्थना करता है, उसकी प्रार्थना तुरन्‍त सून ली जाती है क्‍योंकि परमेश्‍वर की उपस्थिति हर जगह पर है और वह हमारे स्‍वांस से भी अधिक हमारे करीब है (भजन 34:17; 130:1)। जो कोई उस परमेश्‍वर से कहता है कि ‘प्रभु, मै अपने पापों के कारण शर्मिंदा हूँ, मुझे माफ कर’, उसके पाप मिटा दिए जाते हैं (भजन 103:12)। यह क्षमा और जीवन में नई शुरुवात प्रभु यीशु मसीह (जो परमेश्‍वर का स्‍वरूप है और हमारे उद्धार के लिए आज से 2000 वर्ष पूर्व मानव रूप में प्रगट हुआ) के उस बलिदान के कारण हमे उपलब्‍ध किया गया  जिसके  द्वारा उसने पाप और मृत्‍यु के पुराने जगत का अंत किया और अपने पुनुरुत्‍थान (मृतकों में से तीसरे दिन जी उठने) के द्वारा हमारे लिए नया जीवन का प्रबन्‍ध किया। 

यीशु मसीह

बाईबल हमें बताती है कि यीशु मसीह परमेश्‍वर का पुत्र है (यूह.3:16) जिसमें और जिस के द्वारा परमेश्‍वर हमें प्रगट हुआ (इब्रा.1:1,2)। वह परमेश्‍वर का वचन है (यूह.1:1), अदृश्‍य परमेश्‍वर का स्‍वरूप है (कुलु.1:15)। वह अजन्‍म है; उसका नाम ‘पुत्र’ से यह तात्‍पर्य नही कि उसका जन्‍म हुआ या वह सृजा गया; वह अनादि और अनंत है, वह परमेश्‍वर है (यूह.1:1)। परमेश्‍वर और मनुष्‍यों के बीच वही एकमात्र मध्‍यस्‍त है (1तिम.2:5)। परमेश्‍वर के विषय में जो कुछ हम जान सकते है वह केवल यीशु मसीह में और यीशु मसीह के द्वारा ही जान सकते हैं, क्‍योंकि उसमें ईश्‍वरत्‍व की परिपूर्णता सदेह वास करती है (कुलु.2:9; इब्रा.1:3)। वह परमेश्‍वर का तत्‍व का छाप है और इस जगत का सृष्टिकर्ता एवं पालनहारा है (कुलु.1:16; इब्रा.1:3)। वह परमेश्‍वर के अलावा दूसरा परमेश्‍वर नही परन्‍तु परमेश्‍वर है और परमेश्‍वर के साथ एक है (यूह.17:22) जो त्रिएक है। परमेश्‍वर पिता है, परमेश्‍वर पुत्र है, और परमेश्‍वर पवित्रात्‍मा है। लेकिन परमेश्‍वर तीन नही है। वह एक है। वे तीन एक है। यह कैसे हो सकता है? इसलिए क्‍योंकि परमेश्‍वर सत्‍य है, परमेश्‍वर आनंद है, एवं परमेश्‍वर प्रेम है। सत्‍य स्‍वरूप में वह ज्ञाता, ज्ञान का विषय, एवं सर्वज्ञानी आत्‍मा है। प्रेम के स्‍वरूप में वह प्रेमी, प्रिय, एवं प्रेम की आत्‍मा है। आनन्‍द स्‍वरूप में वह आनंदित, आनंद का विषय, एवं आनंद की आत्‍मा है। यीशु का अस्तित्‍व इब्रा‍हिम से पहले था (यूह.8:58)। यीशु जगत की सृष्टि से पहले था (यूह.1:1,2)। यीशु आनंत है। सब कुछ यीशु के द्वारा और यीशु के लिए ही सृजा गया (कुलु.1:16)। वह परमेश्‍वर का वारिस है एवं सृष्टि में पहलौठा है (कुलु.1:15)। वह सृष्टि का मुक्तिदाता एवं जगत का उद्धारकर्ता है जिसके निमित वह मनुष्‍य बन गया (यूह.1:14) ताकि हमारे पापों का दण्‍ड चुकाये और परमेश्‍वर की धार्मिकता को पूरा करे (इब्रा.2:9-18)। वह मृतकों मे से जी उठा और नई सृष्टि का कर्ता बन गया ताकि जो कोई उसे विश्‍वास की आज्ञाकारिता के साथ ग्रहण करेगा वह उसके संग परमेश्‍वर का राज्‍य का वारिस ठहराया जाएगा। वह अंतिम दिन में जीवितों और मृतकों का न्‍याय करने आयेगा (2तिम.4:1)। 

पवित्र आत्‍मा

बाईबल में पवित्र आत्‍मा का वर्णन कई नामों से किया गया है, जैसे ‘परमेश्‍वर का आत्‍मा’ (उत्‍प.1:2), ‘सत्‍य का आत्‍मा’ (यूह.14:17), ‘पवित्र आत्‍मा‘ (लूका 11:13), ‘पवित्रता की आत्‍मा’ (रोम.1:4), एवं ‘सहायक’ (यूह.14:26)। पवित्र आत्‍मा सारे वस्‍तुओं का सृष्टिकर्ता एवं जीवन का दाता हैं (अय्यूब 33:4; भजन 104:30)। उसी ने पवित्र शास्‍त्र की लेखन को प्रेरणा दिया (2पत.1:21)। उसी के द्वारा जगत में परमेश्‍वर के अद्भुत वरदान परमेश्‍वर के लोगों के द्वारा प्रगट होते हैं (1शम.10:10; प्रेरित 10:38; 1कुरु.12)। वह आत्मिक बातों की समझ देता है (अय्यूब 32:8; यश.11:2)। वह परमेश्‍वर के दासों को अभिषिक्‍त करता है और उन्‍हे सेवकाई के लिए अलग करता है (प्रेरित 10:38; 1यूह.2:27)। वह यीशु मसीह का महान गवाह है जो संसार को पाप, धार्मिकता, एवं न्‍याय के विषय में निरुत्‍तर करता है (यूह.15:26; 16:8)। उसी के अंतरनिवास की परिपूर्णता (उससे भरे जाने) के द्वारा शिष्‍य सारे विश्‍व में मसीह के गवाह होने की सामर्थ प्राप्‍त करते हैं (प्रेरित 1:8)। 

सृष्टि

बाईबल हमें यह सिखाती है कि परमेश्‍वर ने जगत एवं सारी वस्‍तुओं की सृष्टि छ: दिनों में किया (उत्‍प.1:2; निर्ग.20:11)। जो वस्‍तुएं आज दृश्‍यमान है वे अनदेखी बातों से अर्थात शून्‍य से सृजे गये (इब्र.11:3)। परमेश्‍वर ने जगत की सृष्टि आवश्‍यक्‍ता से नहीं परन्‍तु अपने ही स्‍वतंत्र और सार्वभौम इच्‍छा के अनुसार किया (प्रकाश.4:11)। परमेश्‍वर ने अंधकार और ज्‍योति दोनों को बनाया (यश.45:7; उत्‍प.1:3) – दोनों भौतिक हैं, पहला दूसरे की अनुपस्थिति हैं। परमेश्‍वर ने अंतर एवं समय की सृष्टि की (भजन 90:2 – ‘तू ने पृथ्‍वी और जगत की रचना (इब्रा. ख्‍़यूल – घुमाना, मोड़ना) की’)। परमेश्‍वर ने जगत की सृष्टि यीशु मसीह के लिए किया जो सारे वस्‍तुओं का वारिस हैं (कुलु.1:16-18; इफि.1:10)। 

स्‍वर्गदूत

स्‍वर्गदूत अमर स्‍वर्गीय प्राणी हैं जिन्‍हे परमेश्‍वर ने बनाया (प्रकाश.19:10;22:8-9;कुलु.2:18;लूका 20:34-36)। उन्‍हे ‘सेवा टहल करनेवाली आत्‍माएं’ कहा गया है (इब्रा.1:14)। वे अलैंगिक एवं अनेक है (लूका 20:34-35; दानि.7:10; इब्रा.12:22)। स्‍वर्गदूतों के अलग-अलग प्रकार है। करूब परमेश्‍वर की वाटिका एवं उपस्थिति में नियूक्‍त किए गये हैं (उत्‍प. 3:24; निर्ग.25:22; यहे.28:13,14)। सेराफ (अर्थात ‘जलने वाले’) को हम यशायाह 6:2,3 में परमेश्‍वर की आराधना करते हुए देख सकते हैं। प्रधान स्‍वर्गदूत दो हैं, मीकाईल, जो योद्धक दूतों का प्रधान है (यहूदा 1:9; प्रकाश.12:7) एवं जिब्राईल, जो परमेश्‍वर का संदेशवाहक है (लूका 1:19; दा‍नि.8:16; 9:21)। स्‍वर्गदूत ‘चुने हुए स्‍वर्गदूतों’ के नाम से भी जाने जाते हैं क्‍योंकि उनका स्‍थान परमेश्‍वर की उपस्थ्‍िाति में है (1तिम.5:21)। शैतान, जो अपने पतन के पूर्व अभिषिक्‍त करूब था, उसके बलवा के समय वे परमेश्‍वर के प्रति विश्‍वासयोग्‍य रहे। स्‍वर्गदूतों के पास बुद्धि है (2शम.14:17; 1पत.1:12), वे परमेश्‍वर के आदेशों का पालन करते हैं (भजन 103:20), परमेश्‍वर के सम्‍मुख में आदरमय भक्ति के साथ खड़े रहते हैं (नहे.9:6; इब्रा.1:6), वे दीन हैं (2पत.2:11), सामर्थी हैं (भजन 103:20), एवं पवित्र हैं (प्रकाश.14:10)। वे परमेश्‍वर के सेवक हैं और परमेश्‍वर की ही आज्ञा के अनुसार कार्य करते हैं (इब्रा.1:14; भजन 103:20)। 

दुष्‍टात्‍माएं

दुष्‍टात्‍माएं वे दूत हैं जिन्‍होंने उस प्रधान दूत लूसिफर के साथ मिलकर परमेश्‍वर का विरोध किया था जो शैतान, अर्थात विराधी, पुराना अजगर, परखनेवाला, दुष्‍ट, संसार का हाकिम, इस संसार का ईश्‍वर, हत्‍यारा, एवं झूठों का पिता के नाम से जाना जाता है) (यशा.14/12-15; यह.28:12-19; यूह.12:31; 2कुरू.4:4; मत्ति.4:3; 1यूह.5:19; यूह.8:44)। इस कारण से इन प्रेत आत्‍माओं के विषय में कहा गया है कि वे वही स्‍वर्गदूत है जिन्‍होंने ‘अपने पद को स्थिर न रखा’ (यहूदा 6)। वे गिरे हुए स्‍वर्गदूत हैं। वे परमेश्‍वर के कार्य का विरोध करते हैं (1थेस.2:18), लोगों को भरमाते हैं (प्रकाश.20:7-8), घमण्‍डी हैं (1तिम.3:6), अभक्ति को बढ़ावा देते हैं (इफि.2:2), क्रूर हैं (1‍पत.5:8), दोषारोपन करते हैं (अय्यूब 2:4), और मनुष्‍यों को अनेक वेदनाओं एवं बिमारियों से पीडित करते हैं (प्रेरित 10:38; मरकुस 9.25)। वे अविश्‍वासियों के शरीरों को कबज़ा करते हैं (मत्ति 8:16), किसी व्‍यक्ति में प्रवेश कर सकते हैं (लूका 22:3), किसी व्‍यक्ति के विचार को प्रभावित कर सकते हैं (प्रेरित 5:3), एवं जानवरों के शरीरों को भी वश में कर सकते हैं (लूका 8:33)। एक विश्‍वा‍सी कभी भी दुष्‍टात्‍माओं से ग्रसित नही हो सकता हैं क्‍योंकि उसका शरीर पवित्र आत्‍मा का मंदिर हैं और उस में दुष्‍टात्‍माओं के लिए कोई जगह नही हो सकता (1कुरू.6:19; 10:21)। दुष्‍टात्‍माएं भी परमेश्‍वर पर विश्‍वास करते हैं और उसके सन्‍मुख्‍ में भय के साथ थरथराते हैं (याकूब 2:19)। शैतान और उसके दुष्‍ट दूत परमेश्‍वर के न्‍याय के प्रतीक्षा में ही हैं (मत्ति 8:29; प्रकाश. 20:10)। यीशु मसीह के विश्‍वासियों को पुकारा गया है कि वे परमेश्‍वर के आधीन हो जाएं और शैतान का सामना करें (याकूब 4:7)। विश्‍वासियों का एक चिन्‍ह यह है कि वे दुष्‍टात्‍माओं को निकालेंगे (मरकुस 16:17)। 

दुष्‍टात्‍माओं को निकालना

एक विश्‍वासी के पास दुष्‍टात्‍माओं को निकालने का मसीह द्वारा दिया गया अधिकार है (मत्ति 10:1,8; मरकुस 16:17)। इस अधिकार का स्रोत मसीह यीशु ही है।मसीह ने  दुष्‍टात्‍माओं को परमेश्‍वर के आत्‍मा के द्वारा निकाला (मत्ति 12:28); इसलिए, एक विश्‍वासी के लिए आवश्‍यक है कि वह आत्‍मा से परिपूर्ण चाल चलें (गल.5:25)।प्रार्थना, उपवास एवं परमेश्‍वर के प्रति संपूर्ण समर्पण अनिवार्य है (मरकुस 9:29; याकूब 4:7)।विश्‍वासी को आत्‍माओं की परख के वरदान के लिए प्रार्थना करना चाहिए (1कुरु.12:10)।उसे दुष्‍टात्‍माओं के साथ, सामान्‍यत:, बात नही करना चाहिए (मरकुस 1:24)। वे भरमाने वाली आत्‍माएं हैं।विश्‍वासी इन प्रेतात्‍माओं को यीशु के नाम से निकालें (प्ररित 16:18)।दुष्‍टात्‍माओं को निकालते समय अपने आंखों को बंद न रखें; आप आदेश दे रहे हैं, प्रार्थना नही कर रहे; कभी कभी यह पाया गया है कि दुष्‍टात्‍माएं आक्रामक हो जाते हैं (मत्ति 17:15; प्रेरित 16:18)।विश्‍वासी दुष्‍टात्‍माओं को यह अनुमति न दें कि वे उसके विश्‍वास को, जो परमेश्‍वर, उसके वचन, एवं मसीह के पवित्र आत्‍मा की सामर्थ पर है, कमज़ोर करें। संदेह शैतान का एक महत्‍वपूर्ण शस्‍त्र है (उत्‍प.3:1; मत्ति 4:3-10)।हर छुटकारे की सेवकाई के दौरान परमेश्‍वर के सेवकों के मध्‍य क्रम एवं अनुशासन होना चाहिए; एक अधिकार के साथ सेवा करें और अन्‍य उसे प्रार्थना के द्वारा समर्थित करें (1कुरू.14:33)।सब प्रकार के ताबीज या जादू टोनें के चीजों को शरीर से दूर करें अन्‍यथा छुटकारे का कार्य नही होगा। इन चीजों को रखने के द्वारा व्‍यक्ति शैतानी ताकतों के लिए गढ़ स्‍थापित करता है (प्ररित 19:19)।छुटकारे पाए हुए व्‍यक्ति को पापों का अंगीकार, मन फिराव, एवं पवित्र आत्‍मा की भरपूरी में अगुवाई करें ताकि दुष्‍टात्‍माओं के लौटने की गंभीर दशा उत्‍पन्‍न न हों (मत्ति 12:44,45)। पवित्रता का जीवन एवं परमेश्‍वर की इच्‍छा में बना रहना आदेशित हैं (1यूह. 5:18)।

मनुष्‍य

परमेश्‍वर ने मनुष्‍य को छटवे दिन पुरुष और स्‍त्री के रूप में अपने ही स्‍वरूप और समानता में बनाया (उत्‍प.1:26-28)। वे परमेश्‍वर का आदर और महिमा को प्रतिबिम्बित करते थे और उनहें सारी सृष्टि पर हुकूमत दिया गया था (भजन 8:5; उत्‍प.1:28)। परमेश्‍वर ने मनुष्‍य को दैहिक, व्‍यक्तित्‍व, एवं आत्मिक स्‍वरूप में बनाया; इस कारण से मनुष्‍य शरीर, प्राण, एवं आत्‍मा हैं (उत्‍प.2:7; अय्यूब 32:8; सभो.11:5;12:7; 1थेस.5:23)। पहला मनुष्‍य आदम ने पाप किया और इसके द्वारा जगत में पाप और मृत्‍यु लेकर आया (रोम.5:12)। बाईबल बताती है कि आदम में सभों ने पाप किया, इसलिए मृत्‍यु हर मनुष्‍यों पर आ गया (रोम.5:12)। यह मृत्‍यु तीन रूप में हैं: आत्मिक मृत्‍यु (परमेश्‍वर से अलग होना और उसके साथ शत्रुता), शारिरिक मृत्‍यु (आत्‍मा का शरीर से अलग होना), एवं दूसरी मृत्‍यु (नरक में अनंत दण्‍ड) (इफि.2:1; कुलु.1:21; रोम.5:10; प्रकाश.21:8)। मनुष्‍य पाप के दण्‍ड के कारण मरनहार हो गया। बाईबल बताती है कि ‘मांस और लोहू’ अर्थात नया जन्‍म प्राप्‍त नही किए मनुष्‍य स्‍वर्ग राज्‍य के वारिस नही हो सकते और न विनाश अविनाशी का अधिकारी हो सकता है (1कुरु.15:50)। इसलिए, उद्धार का एक मात्र मार्ग पवित्रात्‍मा के द्वारा विश्‍वास से नया जन्‍म प्राप्‍त करना ही है (यूह.3:5,6)। जब कोई यीशु मसीह का प्रभुत्‍व को स्‍वीकारता है तब वह पुराने संसार के दोष से मुक्‍त होकर प्रभु यीशु मसीह के आने वाले राज्‍य का वारिस हो जाता है। बाकी लोग इस संसार के ईश्‍वर अर्थात शैतान के आधीन रह जाते हैं (2कुरु.4:4; इफि.2:2; 1युह.5:19)। 

उद्धार

सुसमाचार यह घोषणा करता है कि सभी मनुष्‍य प्रभु यीशु मसीह पर विश्‍वास करने के द्वारा अपने पापों से छुटकारा प्राप्‍त कर सकते हैं। परमेश्‍वर ने यीशु मसीह को संसार में अपने बलिदान के मेमने के रूप में भेजा ताकि वह संसार के पापों के लिए प्रायश्चित करें (यूह.1:29)। यीशु मसीह का देह बलिदान के लिए पवित्रात्‍मा के द्वारा अभिषिक्‍त एवं अलग किया हुआ देह था (लूका 1:35; इब्रा. 10:5)। पवित्रात्‍मा ने यीशु मसीह के उन दु:खों को जो वह हमारे पापों के प्रायश्चित के लिए सहने वाला था पुराने समय के अपने भविष्‍यद्वकताओं पर पहले से ही प्रगट कर दिया था (1पत.1:10,11)। मसीह अपने देहधारण एवं प्रायश्चित की मृत्‍यु के द्वारा मनुष्‍य एवं परमेश्‍वर के बीच में मध्‍यस्‍त बन गया; इस तरह, अपने शरीर का उस अनंत आत्‍मा के द्वारा बलिदान करके उसने हमारे लिए परमेश्‍वर की उपस्थिति में प्रवेश का मार्ग बना दिया (इब्रा.10:19;20)। इस प्रायश्चित की मृत्‍यु एवं पुनुरुत्‍थान (मृत्‍कों में से जी उठने) के द्वारा वह परमेश्‍वर और मनुष्‍य के बीच में मेल मिलाप का मार्ग बन गया (रोम.5:10; इब्रा.1:3)। जो इस उद्धार के दान को ठुकरायेंगे वे अपने पापदोष में पड़े रहेंगे और ‘प्रभु के सामने से, और उसकी शक्ति के तेज से दूर होकर अनन्‍त विनाश का दण्‍ड पाएंगे’ (2थेस. 1:9)। जो यीशु मसीह को अपने प्रभु और उद्धारकर्ता के रूप में ग्रहण करेंगे वे अंधकार की शक्ति से छुड़ाए जाकर प्रभु यीशु मसीह के राज्‍य में प्रवेश कराये जाएंगे (कुलु.1:13)। उनहे पुत्र होने एवं यीशु मसीह के संगी वारिस होने का अधिकार दिया गया हैं (यूह.1:12; रोम;8:17)। उद्धार के आशीषें इस प्रकार से हैं:पापों से क्षमा (इफि.1:7) धर्मि ठहराया जाना (रोम.4:25) अनंत जीवन (यूह.3:16) स्‍वर्ग में नागरिकता (फिलि.3:20) अनंत मिरास (इब्रा.9:15) दुष्‍टात्‍माओं और बिमारियों पर अधिकार (लूका 10:19) पवित्रात्‍मा का फल (गल.5:22,23) एक महिमायुक्‍त पुनुरुत्‍थान (1कुरु.15:51-54) 

कलीसिया

कलीसिया प्रभु यीशु मसीह के शिष्‍यों का समुदाय हैं। वह मेमने की पत्नि (प्रकाश्‍.21:9; इफि.5:25-27; प्रकाश.19:7), मसीह की देह (1कुरु.12:27), एवं परमेश्‍वर का मंदिर (1पत.2:5,6; इफि.2:21,22; 1कुरु.3:16,17) के रूप में भी जानी जाती है। कलीसिया ‘प्रेरितों और भविष्‍यद्वक्‍ताओं की नेव पर जिस के कोने का पत्‍थर मसीह यीशु आप ही है,’ बनायी गई है (इफि.2:20)। इसलिए, प्ररितों की शिक्षा एवं भविष्‍द्वाणी के द्वारा आत्मिक उन्‍नति कलीसिया के लिए बुनियादी हैं (प्रेरित 2:42; 15:32)। कलीसिया संगी विश्‍वासियों की संगति है। इसलिए, मसीहियों को आदेश दिया गया है कि वे आपस में इकटृठा होना न छोउ़ें (इब्रा.10:25)। कलीसिया परमेश्‍वर का परिवार हैं; इसलिए, उस में एकता, सहयोग, उन्‍नति, एवं फलदायकता होना चाहिए (इफि.2:19; 1कुरु.1:10; यूह.13:35; गल.6:1,2)। कलीसिया विश्‍वक और स्‍थानीय दोनों है। प्रभु यीशु मसीह कलीसिया की उन्‍नति के लिए उस में प्ररित, भविष्‍यद्वक्‍ता, सुसमाचार प्रचारक, शिक्षक, एवं पासवानों को नियुक्‍त करते हैं (इफि.4:11-12)। पवित्र आत्‍मा व्‍यक्तियों को अपने वरदानों से सुसज्जित करता हैं ताकि कलीसिया की उन्‍नति हो (1कुरु.12)। कलीसिया को बुलाया गया है कि वह यीशु मसीह के सुसमाचार को हर जाति में प्रचार करें, उनमे से शिष्‍य बनायें, और यीशु मसीह की शिक्षाओं को उन्‍हे सिखाएं (मत्ति 28:19-20)। यह प्रचार चिन्‍हों और अद्भुत कार्यों के साथ होता है जिन्‍हें प्रभु अपने वचन को प्रमाणित करने के लिए करता है (मरकुस 16:20; इब्रा. 2:4)। कलीसिया के दो नियम हैं जल का बपतिस्‍मा (मत्ति 28:19) एवं प्रभु का मेज (1कुरु.11:23-29)। यीशु मसीह अपनी कलीसिया के लिए पुन: पृथ्‍वी पर वापस लौटेगा। तब मसीह में जो मर गए हैं वे पहले जिलाए जाएंगे, फिर जो जीवित हैं वे उसके साथ बादलों में उठा लिए जाएंगे ताकि उसके साथ सदा के लिए रहें (1थेस.4:16,17)। 

बाईबल

बाईबल मसीह यीशु के विश्‍वास द्वारा उद्धार पाने के लिए परमेश्‍वर द्वारा दिया गया शिक्षण ग्रंथ है (2तिम.3:15)। यह उन पवित्र लोगों के द्वारा लिखी गई थी जो पवित्र आत्‍मा की भविष्‍यद्वाणी के अभिषेक के द्वारा चलाये जाते थे (इब्रा.1:1; 2पत.1:20,21)। इसलिए, यह परमेश्‍वर का प्रेरित वचन के रूप में जाना जाता है (2तिम.3:16)। बाईबल को हम सांसारिक रीति से नही समझ सकते हैं। उद्धार के निमित शिक्षा हमें पवित्र आत्‍मा के द्वारा प्राप्‍त होता हैं (1कुरु.2:10-16)। इसलिए, एक अनात्मिक व्‍यक्ति अत्मिक बातों को न तो समझ सकता है न उनहें ग्रहण कर सकता है। केवल बाईबल ही दैवीय ज्ञान का एकमात्र अभ्रांत (तृटि रहित) स्रोत है जिसे परमेश्‍वर ने मनुष्‍यों को दिया है (प्रकाश.22:6)। बाईबल या पवित्र शा‍स्‍त्र यीशु मसीह के विषय में गवाही देती है (यूह.5:29; गल.3:8); इसलिए, कहा गया है कि ‘यीशु की गवाही भविष्‍यद्वाणी की आत्‍मा है’ (प्रकाश. 19:10)। विश्‍वासी को पवित्र शास्‍त्रों को पढ़ने और अध्‍ययन करने के लिए बुलाया गया हैं (भजन 1:2)। बाईबल के वचनों का तोड़ना मरोड़ना या उसमें अन्‍य बातों को जोड़ना या उसमे से निकालना सख्‍त रूप से प्रतिबंधित हैं (2पत.3:16; प्रकाश.22:18;19)। 

न्‍याय

बाईबल हमें सिखाती हैं कि सभी नैतिक प्राणी परमेश्‍वर के न्‍याय सिंहासन के सामने जगत के अंतिम दिन लाए जाएंगे। यीशु मसीह ने उन चिन्‍हों के विषय में बताया जो उस अंतिम दिन से पहले होने वाले हैं। वे इस प्रकार हैं: मत त्‍याग, झूठे भविष्‍यद्वक्‍ताओं का बढ़ना , ख्रीस्‍त विरोधी का आगमन जो परमेश्‍वर के लोगों को सताएगा और राजनैतिक तौर से विश्‍व पर नियंत्रण करेगा, युद्ध, भूकम्‍प, आकाल, बुराई का बढ़ना, पंथों का बढ़ना, एवं अंतरिक्ष में चिन्‍ह (मत्ति 24)। इस‍के पश्‍चात परमेश्‍वर का पुत्र आसमान में अपने सामर्थी स्‍वर्गदूतों के साथ प्रगट होगा (2थेस.1:7)। वह इस बार अपने लोगों का उद्धार एवं संसार का न्‍याय के लिए प्रगट होगा (इब्रा.9:28)। मसीह में जो मर गए हैं वे पहले जिलाए जाएंगे; फिर जो शिष्‍य जीवित हैं वे प्रभु के साथ हमेशा रहने के लिए उठा लिए जाएंगे (1थेस. 4:16,17)। शैतान और उसके दूत नरक में डाल दिए जाएंगे (मत्ति 25:41; प्रकाश.20:10)। वे जिनका नाम जीवन की पुस्‍तक (यीशु की पुस्‍तक) में नही लिखा गया है उन्‍हें आग की झील मे डाल दिया जायेगा (प्रकाश.20:15) क्‍योंकि उनका न्‍याय उन के कार्यों के अनुसार किया जाएगा (रोम.2:5,6; यहूदा 15)। मसीह में विश्‍वासयोग्‍य जो रहेंगे वे स्‍वर्ग राज्‍य के वारिस होवेंगे (प्रकाश.21:7)। 

© Domenic Marbaniang, 2009

Share:

Latest posts

Popular Posts

Blog Archive

Translate