The Name of Jesus (Prayer)

IN THE NAME OF CHRIST

(Joh 14:13-14 NKJ) (Joh 16:24-28 NKJ)

"And whatever you ask in My name, that I will do, that the Father may be glorified in the Son.
"If you ask anything in My name, I will do it. (Joh 14:13-14 NKJ)
"Until now you have asked nothing in My name. Ask, and you will receive, that your joy may be full.
25 "These things I have spoken to you in figurative language; but the time is coming when I will no longer speak to you in figurative language, but I will tell you plainly about the Father.
26 "In that day you will ask in My name, and I do not say to you that I shall pray the Father for you;
27 "for the Father Himself loves you, because you have loved Me, and have believed that I came forth from God.
28 "I came forth from the Father and have come into the world. Again, I leave the world and go to the Father." (Joh 16:24-28 NKJ)

The New Testament introduces a very distinctive element into prayer: the Name of Jesus. Of course, when we pray, we usually end our prayers with the words, “In the Name of Jesus, we pray…” However, when Jesus told us to pray in His Name, He didn’t just mean to repeat those words. To pray in Jesus’ Name means much more than just the repetition of a clause. It means to pray by virtue of the Person of Jesus. It means to petition not out of just who we are, but out of who we are in Jesus. It means to extend our hand to receive from God what He gives to us because of Jesus.

THE SIGNIFICANCE OF THE NAME OF JESUS IN PRAYER
1. THE NAME ASSERTS THE PRIORITY OF CHRIST. HE IS THE FIRST.
When I approach God in the Name of Jesus, I assert that Jesus has priority over my life.
Like John said, “He who comes after me is preferred before me, for He was before me.'" (Joh 1:15 NKJ)

For by Him all things were created that are in heaven and that are on earth, visible and invisible, whether thrones or dominions or principalities or powers. All things were created through Him and for Him.
17 And He is before all things, and in Him all things consist. (Col 1:16-17 NKJ)

HE IS BEFORE ALL THINGS

Christ Existed Before. He was with the Father..
Christ Went Before … He is the anchor of our hope.
This hope we have as an anchor of the soul, both sure and steadfast, and which enters the Presence behind the veil, where the forerunner has entered for us, even Jesus, having become High Priest forever according to the order of Melchizedek.
(Heb 6:19-20 NKJ)


2. THE NAME ASSERTS THE MEDIATORSHIP OF CHRIST. HE IS THE MIDDLE ONE.
Through Him are all things.

He Stands between Man and God and the Eternal Priest, the Lamb of Sacrifice, the Atonement of our Sins, and the Paraclete. Therefore, He declared “I am the way, the truth, and the life. No one comes to the Father except through Me” (Jn.14:6). This understanding is important since the statement is trans-temporal, it applies to both Pre-Fall and Post-Fall situations alike. There was never that Christ was not the way. He did not become the way. He eternally exists as the way, the truth, and the life – the eternal “I am”, immutable and absolute.

He is the Eternal Priest after the order of Melchizedek (Psa.110:4). Not created but eternal.

He not only stands in between me and God. He also stands between me and anyone or anything else. He holds all things together.


Dietrich Bonhoeffer:
"But the same Mediator who makes us individuals is also the founder of a new fellowship. He stands in the centre between my neighbour and myself. He divides, but He also unites. Thus although the direct way to our neighbour is barred, we now find the new and only real way to him—the way which passes through the Mediator." – Bonhoeffer
Christ stands between us, and we can only get into touch with our neighbours through Him. That is why intercession is the most promising way to reach our neighbours"


3. THE NAME ASSERTS THE FINALITY OF CHRIST. HE IS THE LAST.
IN HIM ALL THINGS CONSIST.
that in the dispensation of the fullness of the times He might gather together in one all things in Christ, both which are in heaven and which are on earth-- in Him. (Eph 1:10 NKJ)

FOR HIM… All things were created through Him and for Him. (Col 1:16 NKJ)

NOTHING BEFORE HIM, NOTHING AFTER HIM
NOTHING THAT CAN BE REMOVED, NOTHING THAT CAN BE ADDED.
IN OTHER WORDS, YOU DO NOT NEED ANYTHING OTHER THAN THE NAME OF CHRIST.

THE NAME OF CHRIST IS ENOUGH, ESSENTIALLY SPEAKING.

ILLUS: SIGNATURE ON CHECK

But, the Name is again not just about repeating few words.
IS CHRIST THE PRIORITY OF YOUR LIFE
IS CHRIST THE MEDIATOR OF YOUR LIFE
IS CHRIST THE FINALITY OF YOUR LIFE


That alone will make the difference
Share:

Visionary Prayer (Nehemiah)

VISIONARY PRAYER
Is Passionate (Neh.1:4)
Is Proactive (Neh.2:4). He prayed first...(Priority of Prayer)
Is Practical (Neh.4:9)
Is Persistent (Neh. 6:9) - Strengthened, not weakened
- Matt.5:4 - Blessed are those who mourn

- Isaiah 59:14-16 - God wondered that there was no intercessor, no mourner...
- Ezekiel 9:1-6: God killed all who didn't mourn over evil

Nehemiah's Passion: Mourned, Fasted, Prayed...
- Confession of Sins; Confession of God's Promises
- Solution: Neh 1:11 (Passion must have a direction - When God gives you passion, He also shows the way)
(Posture - Not necessarily kneeling...)
- Not pretence (2:2; or else would not be afraid)
- Visionary prayer helps not only to identify what is wrong, but also helps to see the SOLUTION (Vision of what must be done)
- A Man of Visionary Prayer doesn't just pray.. He is willing to do something to change the situation. He doesn't just mourn the bad shape of things, He SEES the RIGHT FORM that they can be brought into.

- Visionary Prayer is Practically Wise. It is based on a faith that knows its own responsibility.
- Their setting a watch and arming themselves didn't show the weakness of their faith, but the wisdom of their faith. Not weakness but wisdom.
Foolish to not take precautions, when precautions are possible. God guards us, but they knew they had to keep locks and gates.
Hyper-spirituality is reckless and lazy spirituality. They want God to do everything and themselves do nothing.
- Visionary Prayer is not wavering.. It doesn't get fragmented in faith because of circumstances.
- Visionary Prayer is bold and persistent.
- Parable of the Widow and the Unjust Judge.

- Pray without ceasing. Be strong in prayer.
Share:

क्रूस


Pagan Constantine – 312 AD.. According to Lactantius, in dream advised to mark the heavenly sign on the shields of soldiers…
According to Eusebius, while marching at midday,”he saw with his own eyes in the heavens a trophy of the cross arising from the light of the sun, carrying the message, “With this sign, you will conquer”, then had a dream the following night in which Christ appeared with the same sign and told him to make a standard… (Chi. Ro.. XP).

पराजय- जय
लज्‍जा – महिमा
दण्‍ड – आनंद (Sadhu Sundar Singh -  “The Cross bears those who bear the cross”)
A. मृत्‍यु का स्‍थान
1. मसीहा की मृत्‍यु
Daniel 9:24-26 फिर बासठ सप्ताहों के बीतने पर चौक और खाई समेत वह नगर कष्ट के समय में फिर बसाया जाएगा। और उन बासठ सप्ताहों के बीतने पर अभिषिक्त पुरूष काटा जाएगा: और उसके हाथ कुछ न लगेगा (but not for Himself
Rom 5:6 - क्योंकि जब हम निर्बल ही थे, तो मसीह ठीक समय पर भक्तिहीनों के लिये मरा।
Rom 5:8 - परमेश्वर हम पर अपने प्रेम की भलाई इस रीति से प्रगट करता है, कि जब हम पापी ही थे तभी मसीह हमारे लिये मरा।

2. मसीही की मृत्‍यु
-- पुराने  मनुष्‍यत्‍व की
Rom.6:6 - हमारा पुराना मनुष्यत्व उसके साथ क्रूस पर चढ़ाया गया
पुराने विचार, सोच, चालचलन, छवी- यदी murderer, अब वह क्रूस पर, वैश्‍या मसीह में नई सृष्टि
-- शरीर की अभिलाषाओं की
Gal 5:24 - और जो मसीह यीशु के हैं, उन्हों ने शरीर को उस की लालसाओं और अभिलाषों समेत क्रूस पर चढ़ा दिया है
जो पहले पसंद था अब घृणित (alcohol, bad language…)
-- संसार के प्रति और संसार मसीही के प्रति
Gal 6:14 - प्रभु यीशु मसीह के क्रूस का जिस के द्वारा संसार मेरी दृष्टि में और मैं संसार की दृष्टि में क्रूस पर चढ़ाया गया हूं।
Not to please world

B. मेलमिलाप का स्‍थान
1- परमेश्‍वर के साथ शान्ति (Rom.5:1;
Col.1:20 और उसके क्रूस पर बहे हुए लोहू के द्वारा मेल मिलाप करके, सब वस्तुओं को उसी के द्वारा से अपने साथ मेल कर ले चाहे वे पृथ्वी पर की हों, चाहे स्वर्ग में की। ईश्‍वर ने इनसान को स्‍वीकार किया

2- ईश्‍वर ने इनसान और इनसान के बीच मेल और शान्ति किया
(Eph.2:14अलग करनेवाल दीवार को जो बीच में थी, ढा दिया।) Destroyed Enmity (v16)

C. मुक्ति का स्‍थान
- श्राप से मुक्ति (Gal.3:13)
- पापों से मुक्ति (Matt 26:28 – लोहू है, जो बहुतों के लिये पापों की क्षमा के निमित्त बहाया जाता है)
- पाप से मुक्ति (Rom. 6:7 क्योंकि जो मर गया, वह पाप से छूटकर धर्मी ठहरा)
- व्‍यर्थ चालचलन से मुक्ति (1Pet.1:18,19 निकम्मा चाल- चलन जो बापदादों से चला आता है)
- शैतान से मुक्ति (Heb.2:14,15 मृत्यु के द्वारा उसे जिसे मृत्यु पर शक्ति मिली थी, अर्थात् शैतान को निकम्मा कर दे। और जितने मृत्यु के भय के मारे जीवन भर दासत्व में फंसे थे, उन्हें छुड़ा ले।
- मृत्‍युसे मुक्ति(Rom.8:1,2)
Rom. 5:10 क्योंकि बैरी होने की दशा में तो उसके पुत्र की मृत्यु के द्वारा हमारा मेल परमेश्वर के साथ हुआ फिर मेल हो जाने पर उसके जीवन के कारण हम उद्धार क्यों न पाएंगे?(Saved by His Life)
मृत्‍यु का स्‍थान
मेलमिलाप का स्‍थान
मुक्ति का स्‍थान


Share:

परमेश्‍वर की इच्‍छा

Five Aspects (पहलु) of God's Will
1. God's Personal Will (Vyaktigat) - The will of God that He accomplishes and which is uneffected by what any volitional beings do (Ps.115:3; Heb.6:17,18).
Ps 115:3 हमारा परमेश्वर तो स्वर्ग में हैं; उस ने जो चाहा वही किया है।
Heb 6:17 इसलिये जब परमेश्वर ने प्रतिज्ञा के वारिसों पर और भी साफ रीति से प्रगट करना चाहा, कि उसकी मनसा बदल नहीं सकती तो शपथ को बीच में लाया।
Heb 6:18 ताकि दो बे- बदल बातों के द्वारा जिन के विषय में परमेश्वर का झूठा ठहरना अन्होना है, हमारा दृढ़ता से ढाढ़स बन्ध जाए, जो शरण लेने को इसलिये दौड़े है, कि उस आशा को जो साम्हने रखी हुई है प्राप्त करें।
His Pleasure. Rev.4:11 - तू ही ने सब वस्तुएं सृजीं और वे तेरी ही इच्छा से है, और सृजी गईं।
Open Forums: “Why did God create Man? Why create that tree?”
Rom 9:20 क्या गढ़ी हुई वस्तु गढ़नेवाले से कह सकती है कि तू ने मुझे ऐसा क्यों बनाया है?
SOVEREIGN

2. God's Prescriptive Will (Aadeshit) - The will that God prescribes, commands for us to follow (1Jn.2:17; 1Thess.4:3). This includes both God's mandatory and prohibitory will (things that He commands us to do and things that He prohibits us to do).
Matt 7:21 जो मुझ से, हे प्रभु, हे प्रभु कहता है, उन में से हर एक स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करेगा, परन्तु वही जो मेरे स्वर्गीय पिता की इच्छा पर चलता है।
1John 2:17 और संसार और उस की अभिलाषाएं दोनों मिटते जाते हैं, पर जो परमेश्वर की इच्छा पर चलता है, वह सर्वदा बना रहेगा।।
WORD TELLS WHAT IS GOD’S WILL – Can I sell Cigarette in my shop?
Obey God’s clear written commands.
Marriage. Do not be unequally yoked with unbelievers?
1Thess 4:3 क्योंकि परमेश्वर की इच्छा यह है, कि तुम पवित्र बनो: अर्थात् व्यभिचार से बचे रहो।

3. God's Preferred Will (Bhane vali Iccha)- The will of God that prefers something over another (1Tim.2:1; Rom.12:2)
1Tim 2:1 अब मैं सब से पहिले यह उपदेश देता हूं, कि बिनती, और प्रार्थना, और निवेदन, और धन्यवाद, सब मनुष्यों के लिये किए जाएं।
1Tim 2:2 राजाओं और सब ऊंचे पदवालों के निमित्त इसलिये कि हम विश्राम और चैन के साथ सारी भक्ति और गम्भीरता से जीवन बिताएं। यह हमारे उद्धारकर्ता परमेश्वर को अच्छा लगता, और भाता भी है।
1Tim 2:3 यह हमारे उद्धारकर्ता परमेश्वर को अच्छा लगता, और भाता भी है।
1Tim 2:4 वह यह चाहता है, कि सब मनुष्यों का उद्धार हो; और वे सत्य को भली भांति पहिचान लें।
Rom 12:2 और इस संसार के सदृश न बनो; परन्तु तुम्हारी बुद्धि के नये हो जाने से तुम्हारा चाल- चलन भी बदलता जाए, जिस से तुम परमेश्वर की भली, और भावती, और सिद्ध इच्छा अनुभव से मालूम करते रहो।।

4. God's Permissive Will (Anumati) - The will of God that permits certain things, though they are not preferred by Him
JOB, Disciples on Boat… He rebuked the winds.
God permits diseases, but His perfect will is that we don’t be sick but be healed
He doesn’t stop people from sinning, but that doesn’t He wants them to sin.
Acts 14:16 उस ने बीते समयों में सब जातियों को अपने अपने मार्गों में चलने दिया।
You can pray, “Lead us not into temptation, but deliver us from evil”
You must watch and pray that you enter not into temptation. God allows temptation, but He also tells us in the Prescriptive Will to pray not to enter into it.

5. God's Pliable Will (Parivartaniya, Lachila)- Conditional Will. The will of God that can be changed through human responses (Gen.18:23ff – Abraham pleads for Sodom; Exo.32:11-13,14; Moses pleads for Israel Jonah 3:10)
Jonah 3:10 जब परमेश्वर ने उनके कामों को देखा, कि वे कुमार्ग से फिर रहे हैं, तब परमेश्वर ने अपनी इच्छा बदल दी, और उनकी जो हानि करने की ठानी थी, उसको न किया।।

GOD REVEALS HIS WILL
1. Through Nature
Rom 1:19 इसलिये कि परमशॆवर के विषय में ज्ञान उन के मनों में प्रगट है, क्योंकि परमेश्वर ने उन पर प्रगट किया है।
Rom 1:20 क्योंकि उसके अनदेखे गुण, अर्थात् उस की सनातन सामर्थ, और परमेश्वरत्व जगत की सृष्टि के समय से उसके कामों के द्वारा देखने में आते है, यहां तक कि वे निरूत्तर हैं।
Rom 1:26 इसलिये परमशॆवर ने उन्हें नीच कामनाओं के वश में छोड़ दिया; यहां तक कि उन की स्त्रियों ने भी स्वाभाविक व्यवहार को, उस से जो स्वभाव के विरूद्ध है, बदल डाला।

2. Through His Word
Ps 119:104 तेरे उपदेशों के कारण मैं समझदार हो जाता हूं, इसलिये मैं सब मिथ्या मार्गों से बैर रखता हूं।।

Ps 119:105 तेरा वचन मेरे पांव के लिये दीपक, और मेरे मार्ग के लिये उजियाला है।

3. Through His Servants
Shepherds….
Heb 13:17 अपने अगुवों की मानो; और उनके अधीन रहो, क्योंकि वे उन की नाई तुम्हारे प्राणों के लिये जागते रहते, जिन्हें लेखा देना पड़ेगा, कि वे यह काम आनन्द से करें, न कि ठंडी सांस ले लेकर, क्योंकि इस दशा में तुम्हें कुछ लाभ नहीं।

Must not contradict WORD OF GOD.. OT (Prophet slain by lion)

4. Through Circumstances
1Cor 16:8 परनतु मैं पेन्तिकुस्त तक इफिसुस में रहूंगा।
1Cor 16:9 क्योंकि मेरे लिये एक बड़ा और उपयोगी द्वार खुला है, और विरोधी बहुत से हैं।।

2Cor 2:12 और जब मैं मसीह का सुसमाचार, सुनाने को त्रोआस में आया, और प्रभु ने मेरे लिये एक द्वार खोल दिया।

Missionaries who wanted to go to China, but door opened to India…

5. Through Visions and Prophecies
Acts 16:9.
1Thess.5:20,21- Don’t despise prophecies by test all things
Must not contradict Word of God. Must not influence you to violate the Prescribed Will of God.

6. Promptings of the Spirit (Prabhav)
Acts 8:29 –तब आत्मा ने फिलिप्पुस से कहा, निकट जाकर इस रथ के साथ हो ले।
Acts 16:7 और उन्हों ने मूसिया के निकट पहुंचकर, बितूनिया में जाना चाहा; परन्तु यीशु के आत्मा ने उन्हें जाने न दिया।
Exm.. I was invited to preach in a National Youth Conference in another country. As I was praying, the Spirit strongly impressed upon me that I should not go… Later, I realized that not going saved me from issue.
Don’t just accept invitations, first pray.. Walk in the Spirit.
Must NOT Confuse feelings of soul with the impressions of the Spirit

7. Peace of God that rules in the heart
Phil 4:6 किसी भी बात की चिन्ता मत करो: परन्तु हर एक बात में तुम्हारे निवेदन, प्रार्थना और बिनती के द्वारा धन्यवाद के साथ परमेश्वर के सम्मुख अपस्थित किए जाएं।
Phil 4:7 तब परमेश्वर की शान्ति, जो समझ से बिलकुल परे है, तुम्हारे हृदय और तुम्हारे विचारों को मसीह यीशु में सुरक्षित रखेगी।।

Peace protects our thoughts..

How we can abide in God's will
1. Seeking God (Prov.28:5)
Prov 28:5 यहोवा को ढूंढनेवाले सब कुछ समझते हैं।

2. Seeking Discernment (Prov.2:3,4,5; Col.1:9; James 1:5)
Prov 2:3 और प्रवीणता और समझ के लिये अति यत्न से पुकारे,
Prov 2:4 ओर उसको चान्दी की नाईं ढूंढ़े, और गुप्त धन के समान उसी खोज में लगा रहे;
Prov 2:5 तो तू यहोवा के भय को समझेगा, और परमेश्वर का ज्ञान तुझे प्राप्त होगा।
Jas 1:5 पर यदि तुम में से किसी को बुद्धि की घटी हो, तो परमेश्वर से मांगे, जो बिना उलाहना दिए सब को उदारता से देता है; और उस को दी जाएगी।

3. Repenting from sin (2Cor.3:16; 1Jn.1:6-8)
2Cor 3:16 परन्तु जब कभी उन का हृदय प्रभु की ओर फिरेगा, तब वह परदा उठ जाएगा।

4. Obeying God's Word - His Written Will (1Jn.2:17)
Will abide forever…

5. Renewing the mind (Rom.12:2)
6. Being Spiritually minded (1Cor.2:14). Natural man cannot receive
7. Praying in the Spirit (Rom.8:27)


Share:

मन फिराव


उस समय से यीशु प्रचार करना और यह कहना आरम्भ किया, कि मन फिराओ क्योंकि स्वर्ग का राज्य निकट आया है। (Matt.4:17)

Before that John the Baptist (Matt 3:2)
Mat.3:5,6 – तब यरूशलेम के और सारे यहूदिया के, और यरदन के आस पास के सारे देश के लोग उसके पास निकल आए। और अपने अपने पापों को मानकर यरदन नदी में उस से बपतिस्मा लिया।
Luk 3:3 –  वह यरदन के आस पास के सारे देश में आकर, पापों की क्षमा के लिये मन फिराव के बपतिस्मा का प्रचार करने लगा।
Luke 3:7 - जो भीड़ की भीड़ उस से बपतिस्मा लेने को निकल कर आती थी, उन से वह कहता था; हे सांप के बच्चो, तुम्हें किस ने जता दिया, कि आनेवाले क्रोध से भागो।
8 सो मन फिराव के योग्य फल लाओ: और अपने अपने मन में यह न सोचो, कि हमारा पिता इब्राहीम है; क्योंकि मैं तुम से कहता हूं, कि परमेश्वर इन पत्थरों से इब्राहीम के लिये सन्तान उत्पन्न कर सकता है।
9 और अब ही कुल्हाड़ा पेड़ों की जड़ पर धरा है, इसलिये जो जो पेड़ अच्छा फल नहीं लाता, वह काटा और आग में झोंका जाता है।

True Repentance = मन फिराव के योग्य फल

Baptism of John: पापों की क्षमा के लिये मन फिराव
Baptism of Jesus: Mark 1:15: समय पूरा हुआ है, और परमेश्वर का राज्य निकट आ गया है; मन फिराओ और सुसमाचार पर विश्वास करो।

APOSTLES: Acts 2:38: मन फिराओ, और तुम में से हर एक अपने अपने पापों की क्षमा के लिये यीशु मसीह के नाम(faith) से बपतिस्मा ले; तो तुम पवित्र आत्मा का दान पाओगे।
Acts 19:2-5 – Ephesus: Second Time Baptism
उन से कहा; क्या तुम ने विश्वास करते समय पवित्र आत्मा पाया? उन्हों ने उस से कहा, हम ने तो पवित्र आत्मा की चर्चा भी नहीं सुनी।3 उस ने उन से कहा; तो फिर तुम ने किस का बपतिस्मा लिया? उन्हों ने कहा; यूहन्ना का बपतिस्मा। 4 पौलुस ने कहा; यूहन्ना ने यह कहकर मन फिराव का बपतिस्मा दिया, कि जो मेरे बाद आनेवाला है, उस पर अर्थात् यीशु पर विश्वास करना। 5 यह सुनकर उन्हों ने प्रभु यीशु के नाम का बपतिस्मा लिया। 6 और जब पौलुस ने उन पर हाथ रखे, तो उन पर पवित्र आत्मा उतरा, और वे भिन्न भाषा बोलने और भविष्यद्ववाणी करने लगे।

Acts 16:30, 31 - हे साहिबो, उद्धार पाने के लिये मैं क्या करूं?
31 उन्हों ने कहा, प्रभु यीशु मसीह पर विश्वास कर, तो तू और तेरा घराना उद्धार पाएगा।
32 और उन्हों ने उस को, और उसके सारे घर के लोगों को प्रभु का वचन सुनाया।(Necessary for faith)
33 और रात को उसी घड़ी उस ने उन्हें ले जाकर उन के घाव धोए (works of repentance), और उस ने अपने सब लोगों समेत तुरन्त बपतिस्मा लिया।

मन फिराओ और राज्‍य का सुसमाचार पर विश्वास करो।

बुलाए हुए लोग प्रतिज्ञा के अनुसार अनन्त मीरास को प्राप्त करें (Heb.9:15)

लेकिन सब इस राज्‍य और अनन्‍त मीरास को प्राप्‍त नही कर पाएंगे।
बपतिस्‍मा जिसमें मन फिराव  और विश्‍वास नही  है वह अर्थहीन है।

मन फिराव के योग्य फल
यूहुन्‍ना- Luke 3:9 और अब ही कुल्हाड़ा पेड़ों की जड़ पर धरा है, इसलिये जो जो पेड़ अच्छा फल नहीं लाता, वह काटा और आग में झोंका जाता है।
यीशु- Matt 7:19 जो जो पेड़ अच्छा फल नहीं लाता, वह काटा और आग में डाला जाता है।
20 सो उन के फलों से तुम उन्हें पहचान लोगे।
21 जो मुझ से, हे प्रभु, हे प्रभु कहता है, उन में से हर एक स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करेगा, परन्तु वही जो मेरे स्वर्गीय पिता की इच्छा पर चलता है।
उन के फलों से तुम उन्हें पहचान लोगे।(Mango, Apple- Sweet or Bitter; Good or Bad fruit; Wild or Cultured Tree)

सब इस राज्‍य के वारिस नही होंगे परंतु केवल वे जिनहोने सचमुच में मन फिराया और उसका प्रमाण अपने जीवन में परिवर्तन और अच्‍छे फलों के द्वारा दिया।

1Cor.6:9,10 – 1Cor 6:9 क्या तुम नहीं जानते, कि अन्यायी लोग परमेश्वर के राज्य के वारिस न होंगे? धोखा न खाओ (Even if he is a preacher or one who is casting out demons), न वेश्यागामी, न मूत्तिपूजक, न परस्त्रीगामी, न लुच्चे, न पुरूषगामी।
1Cor 6:10 न चोर, न लोभी, न पियक्कड़, न गाली देनेवाले, न अन्धेर करनेवाले परमेश्वर के राज्य के वारिस होंगे।

Gal.5: 19-21 – शरीर के काम तो प्रगट हैं, अर्थात् व्यभिचार, गन्दे काम, लुचपन।
Gal 5:20 मूत्ति पूजा, टोना, बैर, झगड़ा, ईर्ष्या, क्रोध, विरोध, फूट, विधर्म।
Gal 5:21 डाह, मलवालापन, लीलाक्रीड़ा, और इन के ऐसे और और काम हैं, इन के विषय में मैं तुम को पहिले से कह देता हूं जैसा पहिले कह भी चुका हूं, कि ऐसे ऐसे काम करनेवाले परमेश्वर के राज्य के वारिस न होंगे।

1Jn.5:16,17 – यदि कोई अपने भाई को ऐसा पाप करते देखे, जिस का फल मृत्यु न हो, तो बिनती करे, और परमेश्वर, उसे, उन के लिये, जिन्हों ने ऐसा पाप किया है जिस का फल मृत्यु है: इस के विषय में मै बिनती करने के लिये नहीं कहता।
सब प्रकार का अधर्म तो पाप है, परन्तु ऐसा पाप भी है, जिस का फल मृत्यु नहीं।।

Heb 6:4 क्योंकि जिन्हों ने एक बार ज्योति पाई है, जो स्वर्गीय वरदान का स्वाद चख चुके हैं और पवित्र आत्मा के भागी हो गए हैं।
Heb 6:5 और परमेश्वर के उत्तम वचन का और आनेवाले युग की सामर्थों का स्वाद चख चुके हैं।
Heb 6:6 यदि वे भटक जाएं; तो उन्हें मन फिराव के लिये फिर नया बनाना अन्होना है; क्योंकि वे परमेश्वर के पुत्र को अपने लिये फिर क्रूस पर चढ़ाते हैं और प्रगट में। उस पर कलंक लगाते हैं।

Jer 7:16 इस प्रजा के लिये तू प्रार्थना मत कर, न इन लोगों के लिये ऊंचे स्वर से पुकार न मुझ से बिनती कर, क्योंकि मैं तेरी नहीं सुनूंगा।(If you don’t repent and don’t live the life of repentance, God will not answer the prayer of any man of God, for your sins lead to death. Only Faith and Repentance can save)

Jas 5:16 इसलिये तुम आपस में एक दूसरे के साम्हने अपने अपने पापों को मान लो; और एक दूसरे के लिये प्रार्थना करो, जिस के चंगे हो जाओ; धर्मी जन की प्रार्थना के प्रभाव से बहुत कुछ हो सकता है।

Jer 11:13 हे यहूदा, जितने तेरे नगर हैं उतने ही तेरे देवता भी हैं; और यरूशलेम के निवासियों ने हर एक सड़क में उस लज्जापूर्ण बाल की वेदियां बना बनाकर उसके लिये धूप जलाया है।
Jer 11:14 इसलिये तू मेरी इस प्रजा के लिये प्रार्थना न करना, न कोई इन लोगों के लिये ऊंचे स्वर से बिनती करे, क्योंकि जिस समय ये अपनी विपत्ति के मारे मेरी दोहाई देंगे, तब मैं उनकी न सुनूंगा।(IDOLATRY – 1Cor 10:14 इस कारण, हे मेरे प्यारों मूर्त्ति पूजा से बचे रहो।1Sam 15:23 देख बलवा करना और भावी कहनेवालों से पूछना एक ही समान पाप है, और हठ करना मूरतों और गृहदेवताओं की पूजा के तुल्य है। तू ने जो यहोवा की बात को तुच्छ जाना, इसलिये उस ने तुझे राजा होने के लिये तुच्छ जाना है।)

Rev 2:5 (Church of Ephesus): यदि तू मन न फिराएगा, तो मै तेरे पास आकर तेरी दीवट को उस स्थान से हटा दूंगा।
Jer 14:10 यहोवा ने इन लोगों के विषय यों कहा: इनको ऐसा भटकना अच्छा लगता है; ये कुकर्म में चलने से नहीं रूके; इसलिये यहोवा इन से प्रसन्न नहीं है, वह इनका अधर्म स्मरण करेगा और उनके पाप का दण्ड देगा।
Jer 14:11 फिर यहोवा ने मुझ से कहा, इस प्रजा की भलाई के लिये प्रार्थना मत कर।
Jer 14:12 चाहे वे उपवास भी करें, तौभी मैं इनकी दुहाई न सुनूंगा, और चाहे वे होमबलि और अन्नबलि चढ़ाएं, तौभी मैं उन से प्रसन्न न होऊंगा।

Problem with Israelites:
Ezek 33:30 और हे मनुष्य के सन्तान, तेरे लोग भीतों के पास और घरों के द्वारों में तेरे विषय में बातें करते और एक दूसरे से कहते हैं, आओ, सुनो, कि यहोवा की ओर से कौन सा वचन निकलता है।
Ezek 33:32 वे प्रजा की नाई तेरे पास आते और मेरी प्रजा बनकर तेरे साम्हने बैठकर तेरे वचन सुनते हैं, परन्तु वे उन पर चलते नहीं; मुंह से तो वे बहुत प्रेम दिखाते हैं, परन्तु उनका मन लालच ही में लगा रहता है।
Ezek 33:33 और तू उनकी दृष्टि में प्रेम के मधुर गीत गानेवाले और अच्छे बजानेवाले का सा ठहरा है, क्योंकि वे तेरे वचन सुनते तो है, परन्तु उन पर चलते नहीं।

वचन का आनंद लेते लेकिन जीवन में कोई परिवर्तन नही, मन फिराव नही है

Who will inherit
1Those born of the Spirit (1cor.15: 50; Jn.1:12,13). NOT Born Christian, But Born-again. Not Biological Christians but Spiritual Christians
1Cor 15:50 हे भाइयों, मैं यह कहता हूं कि मांस और लोहू परमेश्वर के राज्य के अधिकारी नहीं हो सकते, और न विनाश अविनाशी का अधिकारी हो सकता है।
John 3:5 यीशु ने उत्तर दिया, कि मैं तुझ से सच सच कहता हूं; जब तक कोई मनुष्य जल और आत्मा से न जन्मे तो वह परमेश्वर के राज्य में प्रवेश नहीं कर सकता।
John 1:12 परन्तु जितनों ने उसे ग्रहण किया, उस ने उन्हें परमेश्वर के सन्तान होने का अधिकार दिया, अर्थात् उन्हें जो उसके नाम पर विश्वास रखते हैं।
John 1:13 वे न तो लोहू से, न शरीर की इच्छा से, न मनुष्य की इच्छा से, परन्तु परमेश्वर से उत्पन्न हुए हैं।

2. Poor in Spirit, Meek (Matt.5:3)
Matt 5:3 धन्य हैं वे, जो मन के दीन हैं, क्योंकि स्वर्ग का राज्य उन्हीं का है।
Jas 4:6 वह तो और भी अनुग्रह देता है; इस कारण यह लिखा है, कि परमेश्वर अभिमानियों से विरोध करता है, पर दीनों पर अनुग्रह करता है।

3. (Matt 25:34-40)
Matt 25:34 तब राजा अपनी दहिनी ओर वालों से कहेगा, हे मेरे पिता के धन्य लोगों, आओ, उस राज्य के अधिकारी हो जाओ, जो जगत के आदि से तुम्हारे लिये तैयार किया हुआ है।
Matt 25:35 कयोंकि मै। भूखा था, और तुम ने मुझे खाने को दिया; मैं पियासा था, और तुम ने मुझे पानी पिलाया, मैं परदेशी था, तुम ने मुझे अपने घर में ठहराया।
Matt 25:36 मैं नंगा था, तुम ने मुझे कपड़े पहिनाए; मैं बीमार था, तुम ने मेरी सुधि ली, मैं बन्दीगृह में था, तुम मुझ से मिलने आए।
Matt 25:37 तब धर्मी उस को उत्तर देंगे कि हे प्रभु, हम ने कब तुझे भूखा देखा और सिखाया? या पियासा देखा, और पिलाया?
Matt 25:38 हम ने कब तुझे परदेशी देखा और अपने घर में ठहराया या नंगा देखा, और कपड़े पहिनाए?
Matt 25:39 हम ने कब तुझे बीमार या बन्दीगृह में देखा और तुझ से मिलने आए?
Matt 25:40 तब राजा उन्हें उत्तर देगा; मैं तुम से सच कहता हूं, कि तुम ने जो मेरे इन छोटे से छोटे भाइयों में से किसी एक के साथ किया, वह मेरे ही साथ किया।

4. He who overcomes (Rev.21:7)
Rev 21:7 जो जय पाए, वही उन वस्तुओं का वारिस होगा; और मैं उसका परमेश्वर होऊंगा, और वह मेरा पुत्र होगा।
2Pet 2:19 वे उन्हें स्वतंत्रा होने की प्रतिज्ञा तो देते हैं, पर आप ही सड़ाहट के दास हैं, क्योंकि जो व्यक्ति जिस से हार गया है, वह उसका दास बन जाता है।
2Pet 2:20 और जब वे प्रभु और उद्धारकर्ता यीशु मसीह की पहचान के द्वारा संसार की नाना प्रकार की अशुद्धता से बच निकले, और फिर उन में फंसकर हार गए, तो उन की पिछली दशा पहिली से भी बुरी हो गई है।
2Pet 2:21 क्योंकि धर्म के मार्ग में न जानना ही उन के लिये इस से भला होता, कि उसे जानकर, उस पवित्र आज्ञा से फिर जाते, जो उन्हें सौंपी गई थी। उन पर यह कहावत ठीक बैठती है,
2Pet 2:22 कि कुत्ता अपनी छांट की ओर और धोई हुई सुअरनी कीचड़ में लोटने के लिये फिर चली जाती है।।
Rev 21:8 पर डरपोकों, और अविश्वासियों, और घिनौनों, और हत्यारों, और व्यभिचारियों, और टोन्हों, और मूर्तिपूजकों, और सब झूठों का भाग उस झील में मिलेगा, जो आग और गन्धक से जलती रहती है: यह दूसरी मृत्यु है।।

2 CALLS
Heb 3:7 सो जैसा पवित्र आत्मा कहता है, कि यदि आज तुम उसका शब्द सुनो।
Heb 3:8 तो अपने मन को कठोर न करो

  1. ARE YOU BORN-AGAIN? DID YOU REPENT OF YOUR SINS AND BELIEVE IN JESUS CHRIST? OR ARE YOU LIVING THE SAME UNCHANGED ROTTEN LIFE OF BAD FRUITS? TODAY IS YOUR DAY. WILL YOU SAY TO GOD: “LORD I DO NOT WANT TO LIVE THIS ROTTEN LIFE, I WANT TO CHANGE, I REPENT FROM MY SINS, I TRUST IN YOU, DELIVER ME!” STAND
  2. ARE YOU AN OVERCOMER? क्‍या आप विजयी जीवन जी रहे है? OR ARE YOU FALLING AGAIN AND AGAIN INTO THE SAME SIN, AND PROGRESSING NOWHERE. DO YOU WANT TO BE STRENGTHENED BY GOD’S GRACE THROUGH FAITH. STAND WE WILL PRAY
    Share:

    Popular Posts

    Blog Archive

    Contact Form

    Name

    Email *

    Message *